1.सामान्य ज्ञान

इस Forum पर आद्यात्मिक ज्ञान(Spiritual Info)पर ही Posts होगी।
Post Reply
mayanknikhil
Rank1
Rank1
Posts: 26
Joined: 17 Dec 2018, 14:27
India

1.सामान्य ज्ञान

Post by mayanknikhil » 21 Dec 2018, 16:03

तंत्र में महत्वपूर्ण है शरीर : साधारण अर्थ में तंत्र का अंर्थ तन से, मंत्र का अर्थ मन से और यंत्र का अर्थ किसी मशीन या वस्तु से होता है।
तंत्र का एक दूसरा अर्थ होता है व्यवस्था। तंत्र मानता है कि हम शरीर में है यह एक वास्तविकता है। भौतिक शरीर ही हमारे सभी कार्यों का एक केंद्र है।
अत: इस शरीर को हर तरह से तृप्त और स्वस्थ रखना अत्यंत जरूरी है। इस शरीर की क्षमता को बढ़ाना जरूरी है। इस शरीर से ही अध्यात्म को साधा जा सकता है। योग भी यही कहता है।
तंत्र का मांस, मदिरा और संभोग से किसी भी प्रकार का संबंध नहीं है, जो व्यक्ति इस तरह के घोर कर्म में लिप्त है, वह कभी तांत्रिक नहीं बन सकता।
तंत्र को इसी तरह के लोगों ने बदनाम कर दिया है। तांत्रिक साधना का मूल उद्देश्य सिद्धि से साक्षात्कार करना है। इसके लिए अंतर्मुखी होकर साधनाएं की जाती हैं।


जाय गुरु देव
मयंक

Link:
BBcode:
HTML:
Hide post links
Show post links

Post Reply